Uske chehre par es kadar noor tha

उसके चेहरे पर इस क़दर नूर था,
कि उसकी याद में रोना भी मंज़ूर था,
बेवफा भी नहीं कह सकते उसको ज़ालिम,
प्यार तो हमने किया है वो तो बेक़सूर था।

Uske Chehre Par Is Kadar Noor Tha,
Ki Uski Yaad Me Rona Bhi Manjur Tha,
Bevafa Bhi Nahin Kah Sakte Usko Faraj,
Pyar To Hamne Kiya Hai Vo To Bekasur Tha!

Related Shayari: