Mujhe bhi ab neend ki talab nahin rahi, Shayari

Mujhe bhi ab neend ki talab nahin rahi,
Ab raaton ko jagna accha lagta hain,
Mujhe nahi malum wo meri kismat me hai ki nahi,
Magar use khuda se mangna achha lagta hai. 💔 😢

मुझे भी अब नींद की तलब नहीं रही,
अब रातों को जागना अच्छा लगता है,
मुझे नहीं मालूम वो मेरी किस्मत में है या नहीं,
मगर उसे खुदा से माँगना अच्छा लगता है। 💔 😢

Related Shayari: