2 Line Shayari #233, Maine to dekha tha bas ek nazar

मैंने तो देखा था बस एक नजर के खातिर,
क्या खबर थी की रग-रग में समां जाओगे तुम। 💘

मेरे इश्क़ के तरीके बेहद जुदा हैं.. औरों से
मुझे तन्हा होने पर भी इश्क़ करना आता है.. तुमसे। 💘

दिल से तेरा ख्याल ना जाए तो क्या करूँ
मैं क्या करूँ कोई ये ना बताए तो क्या करूँ। 💕

वो आँखों ही आँखों में करती है ऐसे बातें,
के कानों कान किसी को खबर नही होती। 💏

ख़ामोशी की तह में छुपा लो सारे उलझनें,
शोर कभी मुश्किलों को आसान नहीं करता। ☝️🍁

बयाँ करने थे बस दो अल्फाज मोहब्बत के,
जुबाँ ने साथ ना दिया और आँखें तुम पढ़ ना पाए। 💕

आँखों में काजल रखुगीं किसी का इंतज़ार नहीं,
खूबसूरत हुं मै खूबसूरत दिखुगीं बेक़रार नहीं। 😍

बाद मुद्दत के इक झोंका महसूस हुआ, वीराने दिल में,
ज़िन्दगी, कहीं ये तेरे कदमों की आहट तो नहीं। 💖 🚶

सब मुझे ही कहते हैं कि उसे भूला दे,
उसे कोई नहीं कहता कि वो मेरा हो जाये। 💞

बयाँ करने थे बस दो अल्फाज मोहब्बत के,
जुबाँ ने साथ ना दिया और आँखें तुम पढ़ ना पाए। 💕

Related Shayari: