2 Line Shayari #231, Taras Jaoge hamare labo se

तरस जाओगे हमारे लबों से सुनने को एक लफ्ज भी,
प्यार की बात तो क्या हम शिकायत तक नहीं करेंगे। 💘

बेशक नजरों से दूर हो,
पर तुम मेरे सबसे करीब हो। 💞

ज़िक्र बेवफाओँ का था रात सर-ए-महफ़िल मे,
झुका मेरा भी सिर जब मेरे यार का नाम आया। 😔

मैं तो अपने ही जज्बातों में खोई थी,
एहसास ही नहीं हुआ कि कब तुम मेरी एहसास बन गये। 💞

कितनी बन्दिशें कितनी हदें कितनी रस्मों,
को तोड़ा है.. मेने इक तुमसे जुड़े रहने के लिए। ❣ 💕

ज़िस्म-ए-दामन में पहले ही दर्द कम ना थे,
कुछ और मुनाफ़ा कर गए जो हमदर्द थे। 💘

ना मैं गिरा ना ही मेरे हौंसलौं के मिनार गिरे,
कुछ लोग मुझको गिराने मैं बार बार गिरे। ☝️

ना रुकी वक़्त की गर्दिश ना ज़माना बदला,
वक़्त बदला तो परिंदों ने ठिकाना बदला। 🍃🍂

किस हक से कहूँ कि मुझसे बात कर लिया करो,
ना ही ये वक्त मेरा है और ना ही अब तुम मेरी रही। 💔

गर बाज़ी इश्क़ की बाज़ी है जो चाहो लगा दो डर कैसा,
गर जीत गए तो क्या कहना हारे भी तो बाज़ी मात नहीं 💕

Related Shayari: