Tag Archives: Zid

Zid Shayari, Zidd Shayari

Yaad Karne Wala Ab Yaad Ban Gaya, Shayari

टूट जायेगी तुम्हारी ज़िद की आदत उस दिन,
जब पता चलेगा याद करने वाला याद बन कर रह गया। 🍂

Toot Jaayegi Tumhari Zid Ki Aadat Us Din,
Jab Pata Chalega Ke Yaad Karne Wala Ab Yaad Ban Gaya. 🍂

Attitude Shayari, Anjaam Ki Parwaah

Anjaam Ki Parwaah Hoti Toh,
Hum Mohabbat Karna Chhod Dete,
Mohabbat Mein Toh Zid Hoti Hai,
Aur Zid Ke Bade Pakke Hain Hum. ☝️

अंजाम की परवाह होती तो,
हम मोहब्बत करना छोड़ देते,
मोहब्बत में तो जिद्द होती है,
और जिद्द के बड़े पक्के हैं हम। ☝️

Hindi Shayari, Hami ne kiye ham pe sitam

Hami ne kiye.. ham pe jo sitam huye,
uske sitam to sare marham huye,
apni hi zid thi jo ham-ham huye,
bas kher.. thodhe kam huye!

हमीं ने किये.. हम पे जो सितम हुये,
उनके सितम तो सारे मरहम हुये,
अपनी ही ज़िद थी जो हम-हम हुये,
बस ख़ैर है.. थोड़े कम हुये!

Hindi Shayari, Meri khamoshiyon

Meri khamoshiyon mein bhi fasana dhoondh leti hai,
badi shatir hai ye duniya bahana dhoondh leti hai,
hakeekat zid kiye baithi hai chaknachur karne ko,
magar har aankh phir sapna suhana dhoondh leti hai!

मेरी खामोशियों में भी फसाना ढूंढ लेती है,
बड़ी शातिर है ये दुनिया बहाना ढूंढ लेती है,
हकीकत जिद किये बैठी है चकनाचूर करने को,
मगर हर आंख फिर सपना सुहाना ढूंढ लेती है!

Love Shayari, Na zid hai na koi gurur

Na zid hai na koi gurur hai hume,
Bas tumhe pane ka surur hai hume,
Ishq gunah hai to galti ki humne,
Saza jo bhi ho manjur hai hume!

न जिद है न कोई गुरूर है हमे,
बस तुम्हे पाने का सुरूर है हमे,
इश्क गुनाह है तो गलती की हमने,
सजा जो भी हो मंजूर है हमे।

Bewafa Shayari, Kya aajeeb si

क्या अजीब सी ज़िद है..
हम दोनों की,
तेरी मर्ज़ी हमसे जुदा होने की..
और मेरी तेरे पीछे तबाह होने की..

Kya ajeeb si zid hai..
hum dono ki..
teri tamanna mujhse judaa hone ki,
aur meri tamanna tere Liye tabah hone ki..

Bewafa Shayari, Chand tare zameen par

Chand tare zameen par lane ki zid thi,
Hamein unko apna banane ki zid thi,
Achcha hua woh pehle hi ho gayi bewafa,
Warna unhe pane ko zamana jalane ki zid thi.

चाँद तारे ज़मीन पर लाने की ज़िद थी,
हमें उनको अपना बनाने की ज़िद थी,
अच्छा हुआ वो पहले ही हो गयी बेवफा,
वरना उन्हे पाने को ज़माना जलाने की ज़िद थी!!

Hindi Shayari, Uljhi sham ko pane ki

Uljhi sham ko pane ki zid na karo,
Na ho apna use apnane ki zid na karo,
Is Samander me tuffan bahut aate hain,
Iske shahil par ghar basane ki zid na karo!

उलझी शाम को पाने की ज़िद न करो,
जो ना हो अपना उसे अपनाने की ज़िद न करो,
इस समंदर में तूफ़ान बहुत आते है,
इसके साहिल पर घर बनाने की ज़िद न करो।