Tag Archives: Zakhm

Zakhm Shayari

Dard Shayari, Teer ka dard

Teer ka dard sa lagta hai seene mein mere,
Jab kaapata dekh bhi tum muskura dete ho,
Log to murde ko bhi seene se laga kar pyar karte hain,
Phir kyun mere kareeb aakar tum har baar zakhm naya dete ho.

तीर का दर्द सा लगता है सीने में मेरे,
जब कांपता देख भी तुम मुस्कुरा देते हो,
लोग तो मुर्दे को भी सीने से लगा कर प्यार करते हैं,
फिर क्यों मेरे करीब आकर तुम हर बार ज़ख्म नया देते हो।

Yaad Shayari, Aapki kami se

Aapki kami se dil mera udaas hai,
Par mujhe to aapse milne ki aas hai,
Zakhm nahi par dard ka ehsaas hai,
Aisa lagta hai
Jaise dil ka ek tukda aapke paas hai.

आपकी कमी से मेरा दिल उदास हैं,
पर मुझे तो आपसे मिलने की आस हैं,
जख़्म नहीं पर दर्द का एहसास है
ऐसा लगता है..
जैसे दिल का एक टुकड़ा आपके पास हैं।

Dard Shayari, Zakham jab mere

Zakham Jab Mere Seene Ke Bahar Jayenge,
Aansu Bhi Moti Bankar Bikhar Jayenge,
Ye Mat Puchhna Ki Kis Ne Dard Diya,
Warna Kuchh Apno Ke Chehre Bhi Utar Jayenge.

ज़ख़्म जब मेरे सीने के भर जाएँगे,
आँसू भी मोती बनकर बिखर जाएँगे,
ये मत पूछना किस किस ने धोखा दिया,
वरना कुछ अपनो के चेहरे उतर जाएँगे।

❇️ 4more: Zakhm Shayari

Dard Shayari, Dard Kitna Hai

Dard Kitna Hai Bata Nahi Sakte,
Zakhm Kitne Hain Dikha Nahi Sakte,
Ankhon Se Samjh Sako To Samjh Lo,
Ansoo Gire Hain Kitne Gina Nahi Sakte.

दर्द कितना है बता नहीं सकते,
ज़ख़्म कितने हैं दिखा नहीं सकते,
आँखों से खूद समझ लो..
आँसू गिरे हैं कितने गिना नहीं सकते।

Dard Shayari, Hanste Huye Zakhnon

Hanste Huye Zakhmon Ko Bhulane Lage Hain Hum,
Har Dard Ke Nishaan Mitaane Lage Hain Hum,
Ab Aur Koi Zulm Satayega Kya Bhala,
Zulmon Sitam Ko Ab Toh Satane Lage Hain Hum.

हँसते हुए ज़ख्मों को भुलाने लगे हैं हम,
हर दर्द के निशान मिटाने लगे हैं हम,
अब और कोई ज़ुल्म सताएगा क्या भला,
ज़ुल्मों सितम को अब तो सताने लगे हैं हम।

Heart Torching Shayari, Khamosh chehre pe

Khamosh chehre pe hazaro pahre hote hain,
Hasti huyi aankho me zakhm gahre hote hain,
Jinko, sada ke liye bhool jana accha samjhte hain,
Shayad unse hi dil ke rishte gahre hote hain!

खामोश चेहरे पर हजार पहरे होते है,
हंसती आंखों में भी जख्म गहरे होते है,
जिनसे अक्सर रूठ जाते है हम,
असल में उनसे ही रिश्ते गहरे होते है! 💞

Dard Shayari, Dil me Hai Jo Dard

Dil me Hai Jo Dard Wo Dard Kaise Bataye,
Haste Hue Ye Zakhm Kaise Dikhaye,
Kehti Hai Ye Duniya Hame Khush Naseeb,
Magar Is Naseeb Ki Dastan Kaise Bataye!

दिल में है जो दर्द वो दर्द किसे बताएं,
हंसते हुए ये ज़ख्म किसे दिखाएँ,
कहती है ये दुनिया हमे खुश नसीब,
मगर इस नसीब की दास्ताँ किसे बताएं!