Tag Archives: Zakhm

Zakhm Shayari

Tujhse Pahle Bhi Kayi Zakhm The, Shayari

Tujhse Pahle Bhi Kayi Zakhm The Seene Mein Magar,
Ab Ke Woh Dard Hai Ke Ragein TootTi Hain. 💔

तुझसे पहले भी कई जख्म थे सीने में मगर,
अब के वह दर्द है दिल में कि रगें टूटती हैं। 💔

Pyar tumhen bhi hai kabhi kah do zara

love shayari

Bebsi meri kabhi samjho jara,
dil mera aakar kabhi padh lo zara,
zakhm tune jo diye kaise sahe,
Pyar tumhen bhi hai kabhi kah do zara. 💘

बेबसी मेरी कभी समझो ज़रा,
दिल मेरा आकर कभी पढ़ लो ज़रा,
ज़ख़्म तूने जो दिए कैसे सहें,
प्यार तुम्हें भी है कभी कह दो ज़रा! 💘

Yu hi besabab nahi bante bhanwar, Shayari

यूँ ही बे-सबब नही बनते भँवर दरिया में,
ज़ख्म कोई तो तेरी रूह में उतरा होगा। 🧚‍♀️

Yu hi besabab nahi bante bhanwar dariyaa mein,
zakhm koi to teri rooh mein utara hoga. 🧚‍♀️

Sitam sah kar bhi kitne gam chhipaye humne, Shayari

Sitam sah kar bhi kitne gam chhipaye humne,
Teri khatir har din aansu bahaaye humne,
Tu chhod gaya jahan humein raahon mein akela,
Tere diye zakhm har ek se chhupaye humne. 💔

हर सितम सह कर कितने ग़म छिपाये हमने,
तेरी खातिर हर दिन आँसू बहाये हमने,
तू छोड़ गया जहाँ हमें राहों में अकेला,
बस तेरे दिए ज़ख्म हर एक से छिपाए हमने। 💔

Apni aakhon ke samunder main utar jaane de

Apni aakhon ke samunder main utar jaane de,
Tera mujrim hoon, mujhe doob ke mar jaane de.
Zakhm kitne teri chahat se mile hain mujhko,
Sonchta hoon kahoon tujhse, magar jaane de.

Sad Shayari, Ab to aansu bhi nahi aate aankhon mein

Ab to aansu bhi nahi aate aankhon mein,
Har zakhm nasur sa lagata hai,
Mohabbat aise mod par laei hai ke..
Ab apna naam bhi begana sa lagta hai. 💔

अब तो आँसू भी नही आते आँखों में,
हर ज़ख़्म नासूर सा लगता है,
मोहब्बत ऐसे मोड़ पर लाई है के..
अब अपना नाम भी बेगाना सा लगता है। 💔

Sad Shayari, Uljhan bhare din

Uljhan bhare din hain mere, tanha hain raate,
De jate hain zakhm, mujhe tere vo baaten,
Ham bhi badh ke thaam lete tera daaman,
Yoon tune hamako agar rulaaya na hota,
Teree najaro ke ham bhi ek nazaare hote,
Jo tune apani najaro mein hame basaaya hota. 💔

उलझन भरे दिन हैं मेरे, तनहा हैं राते,
दे जाती हैं जख्म, मुझे तेरी वो बातें,
हम भी बढ़ के थाम लेते तेरा दामन,
यूँ तूने हमको अगर रुलाया ना होता,
तेरी नजरो के हम भी एक नज़ारे होते,
जो तूने अपनी नजरो में हमे बसाया होता। 💔

Dard Shayari, Teer ka dard

Teer ka dard sa lagta hai seene mein mere,
Jab kaapata dekh bhi tum muskura dete ho,
Log to murde ko bhi seene se laga kar pyar karte hain,
Phir kyun mere kareeb aakar tum har baar zakhm naya dete ho.

तीर का दर्द सा लगता है सीने में मेरे,
जब कांपता देख भी तुम मुस्कुरा देते हो,
लोग तो मुर्दे को भी सीने से लगा कर प्यार करते हैं,
फिर क्यों मेरे करीब आकर तुम हर बार ज़ख्म नया देते हो।

Yaad Shayari, Aapki kami se

Aapki kami se dil mera udaas hai,
Par mujhe to aapse milne ki aas hai,
Zakhm nahi par dard ka ehsaas hai,
Aisa lagta hai
Jaise dil ka ek tukda aapke paas hai.

आपकी कमी से मेरा दिल उदास हैं,
पर मुझे तो आपसे मिलने की आस हैं,
जख़्म नहीं पर दर्द का एहसास है
ऐसा लगता है..
जैसे दिल का एक टुकड़ा आपके पास हैं।

Dard Shayari, Zakham jab mere

Zakham Jab Mere Seene Ke Bahar Jayenge,
Aansu Bhi Moti Bankar Bikhar Jayenge,
Ye Mat Puchhna Ki Kis Ne Dard Diya,
Warna Kuchh Apno Ke Chehre Bhi Utar Jayenge.

ज़ख़्म जब मेरे सीने के भर जाएँगे,
आँसू भी मोती बनकर बिखर जाएँगे,
ये मत पूछना किस किस ने धोखा दिया,
वरना कुछ अपनो के चेहरे उतर जाएँगे।

❇️ 4more: Zakhm Shayari