Tag Archives: Phool

Phool Shayari

Love Shayari, Chand se phool se ya meri jubaan se

चाँद से फूल से या मेरी जुबां से सुनिए,
हर तरफ आप का किस्सा है जहां से सुनिए।

Chand se phool se ya meri jubaan se sunie,
har taraf aap ka kissa hai jahaan se sunie.

Beti-Betiyan Shayari Collection

Here is Largest Beti Betiyan Shayari Collection

खिलती हुई कलियाँ हैं बेटियाँ,
माँ-बाप का दर्द समझती हैं बेटियाँ,
घर को रोशन करती हैं बेटियाँ,
लड़के आज हैं तो आने वाला कल हैं बेटियाँ।

एक मीठी सी मुस्कान हैं बेटी,
यह सच है कि मेहमान हैं बेटी,
उस घर की पहचान बनने चली
जिस घर से अनजान हैं बेटी।

मातृशक्ति यदि नही बची तो बाकी यहाँ रहेगा कौन,
प्रसव वेदना, लालन-पालन सब दुःख-दर्द सहेगा कौन,
मानव हो तो दानवता को त्यागो फिर ये उत्तर दो इस..
नन्ही से जान के दुश्मन को इंसान कहेगा कौन।

बेटी को चांद जैसा मत बनाओ
कि हर कोई घूर घूर कर देखे..
किंतु.. बेटी को सूरज जैसा बनाओ
ताकि घूरने से पहले सब की नजर झुक जाये।

Beti To Bhagwan Ka Parsaad Hoti Hain,
Beti To Hamare Ghar Ki Barkat Hoti Hain,
Beti Hone Par Jo Miithai Baanten
Laxmi Ki Kripa Hamesha Unke Ghar Hoti Hain.

बेटे भाग्य से होते हैं पर बेटियाँ सौभाग्य से होती हैं,
बेटा अंश हैं तो बेटी वंश हैं, बेटा आन हैं तो बेटी शान हैं,
लक्ष्मी का वरदान हैं बेटी, धरती पर भगवान हैं बेटी।

BETIYAN 2 LINE SHAYARI

बेटे भाग्य से होते हैं
पर बेटियाँ सौभाग्य से होती हैं।

जरूरी नही रौशनी चिरागों से ही हो,
बेटियाँ भी घर में उजाला करती हैं।

सब ने पूछा बहु दहेज़ में क्या-क्या ले आई,
किसी ने ना पूछा बेटी क्या-क्या छोड़ आई।

माँ-बाप के जीवन में ये दिन भी आता हैं,
जिगर का टुकड़ा ही एक दिन दूर हो जाता हैं।

बेटी बचाओ और जीवन सजाओ,
बेटी पढ़ाओ और ख़ुशहाली बढ़ाओ।

मुझे पापा से ज्यादा शाम अच्छी लगती हैं,
क्योकि पापा तो सिर्फ खिलौने लाते हैं पर शाम तो पापा को लाती हैं।

पराया होकर भी कभी पराई नही होती,
शायद इसलिए कभी पिता से हँसकर बेटी की बिदाई नही होती।

बेटी को मत समझो भार, जीवन का हैं ये आधार,
बेटी है कुदरत का उपहार, जीने का इसको दो अधिकार।

दहेज में बहू क्या लायी ये तो सभी ने पूछा ,
लेकिन एक बेटी क्या-क्या छोड़ आयी ये किसी ने पूछा ही नहीं!

मुझसे मां से दो पल की जुदाई सही नहीं जाती हॆ,
पता नहीं बेटीयां ये हुनर कहां से लाती हॆं!!

बेटी भार नही, है आधार, जीवन हैं उसका अधिकार,
शिक्षा हैं उसका हथियार बढ़ाओ कदम, करो स्वीकार।

Betiyan Sab Ke Muqaddar Mein Kahan Hoti Hain,
Ghar Khudaa Ko Jo Pasand Aaye Wahan Hoti Hain..

BETIYAN POETRY AND POEMS

Bahut Chanchal Bahut Khushnuma Si Hoti Hain Betiya,
Nazuk Sa Dil Rakhti Hain Masoom Si Hoti Hain Betiya,
Baat Baat Par Roti Hain Nadan Si Hoti Hai Betiya,
Hai Rehmat Se Bharpoor Khuda Ki Nemat Ye Betiya,
Ghar Bhi Mehak Uthta Hai Jab Muskrati Hai Betiya,
Hoti Hai Ajib Si Kefiyt Jab Chhod Ke Chali Jati Hai Betiya,
Ghar Lagta Hai Suna Suna Kitna Rula Jati Hai Betiya,
Baabul Ki Laadli Hoti Hai Betiya,
Yeh Ham Nahi Kehte Yeh Toh ‘Khuda’ Kehta Hai Ke
Jab Main Bahut Khush Hota Hu Toh Paida Hoti Hai Betiya..

Beti Bankar Aayi Hun Maa-Baap K Jivan Me,
Basera Hoga Kal Mera Kisi Aur K Angan Mein,
Kyu Ye Reet Khuda Ne Banai Hogi,
Kehte Hai Aaj Nahi To Kal Tu Parai Hogi,
Deke Janam Paal-Poskar Jisne Hume Bada Kiya,
Aur Waqt Aaya To Unhi Hatho Ne Hume Vida Kiya,
Tut K Bikhar Jati Hai Humari Zindagi Wahi,
Par Phir Bhi Us Bandhan Me Pyar Mile Zaruri To Nahi,
Kyu Rishta Hamara Itna Ajib Hota Hai,
Kya Bas Yahi Hum Betiyon Ka Nasib Hota Hai?

Ghar Ki Chahal Pehal Hai Beti,
Jeewan Mein Ek Kamal Hai Beti!
Dhoop Kabhi Gunguni Suhani,
Kabhi Chand Si Sheetal Hai Beti!
Shiksha Gun Sanskaar Rop Do,
Phir Beto Jaisi Sabal Hai Beti!
Agar Sahara De Do Vishwas Ka,
Ganga Jal Si Paawan Hai Beri!
Prakriti Ke Sab Sadgunn Seencho,
Toh Prakriti Si Nicshchal Si Hai Beti!
Kyon Darte Ho Paida Karne Se?
Arre Aane Wala Kal Hai Beti!

Beti Ki Mohabbat Ko Kabhi Aazmana Nahi,
Woh Phool Hai Usse Kabhi Rulana Nahi,
Baap Ka Toh Maan Hoti Hai Beti,
Zinda Hone Ki Pehchan Hoti Hai Beti,
Uski Ankhe Kabhi Num Na Hone Dena,
Uski Zindagi Se Khushiya Kabhi Kam Na Hone Dena,
Ungli Pakad Ke Kal Jis Ko Chalaya Tha Tumne,
Phir Usko Hee Doli Mai Beethana Hai Tumhe,
Bahut Chota Sa Safar Hota Hai Beti K Saath,
Bahot Kum Waqt K Liye Hoti Hai Woh Hamare Pass!

Oas Ki Boond Si Hoti Hai Betiyan,
Sparsh Khurdara Ho To Roti Hai Betiyan,
Roshan Karega Beta To Ek Kul Ko,
Do Do Kulon Ko Ki Laj Hoti Hai Betiyan,
Koi Nahi Hai Ek Dusre Se Kam,
Heera Agar Hai Beta,
To Sucha Moti Hai Betiyan,
Kanton Ki Rah Par Yeh Khud Hi Chalti Hai,
Auron Ke Liye Phool Hoti Hai Betiyan,
Vidhi Ka Vidhan Hai,
Yahi Dunia Ki Rasam Hai,
Muthi Bhar Neer Si Hoti Hai Betiyan!

ओस की बुँद सी होती है बेटीयाँ,
सपर्श खुरदरा हो तो रोती है बेटीयाँ,
रोशन करेगा बेटा तो एक कुल को,
दो दो कुलो की लाज होती है बेटीयाँ,
कोई नही है एक दुसरे से कम,
हीरा अगर है बेटा तो सुचा मोती हैं बेटीयाँ,
काँटो की राह पर ये खुद ही चलती हैं,
औरो के लिए फुल होती है बेटीयाँ,
विधी का विधान है.. यही दुनीयाँ की रसम है,
मुठी भर नीर सी होती है बेटीयाँ।

बोये जाते हैं बेटे.. पर उग जाती हैं बेटियाँ,
खाद पानी बेटों को.. पर लहराती हैं बेटियां,
स्कूल जाते हैं बेटे.. पर पढ़ जाती हैं बेटियां,
मेहनत करते हैं बेटे.. पर अव्वल आती हैं बेटियां,
रुलाते हैं जब खूब बेटे.. तब हंसाती हैं बेटियां,
नाम करें न करें बेटे.. पर नाम कमाती हैं बेटियां,
जब दर्द देते बेटे.. तब मरहम लगाती बेटियां,
छोड़ जाते हैं जब बेटे.. तो काम आती हैं बेटियां,
आशा रहती है बेटों से.. पर पुर्ण करती हैं बेटियां,
हजारों फरमाइश से भरे हैं बेटे.. पर समय की नज़ाकत को समझती बेटियां।

Kyon Khuda Ki Khudaai Har Rishte Me Azeeb Hoti Hai,
Door Rahkar Bhi Beti Hi Maa Ke Sabse Kareeb Hoti Hai,
Deta Hai Daman Me Jiske Khuda Beti Ka Tohfaa,
Wo Aangan Pawan, Wo Maa Sabse Khushnaseeb Hoti Hai,
Milta Hai Kisi Ko Ghar Sone Ka, Koi Tarse Mamta Ko,
Door Rahkar Sahna, Toot Kar Sabko Chahna Hi Uski Tahzeeb Hoti Hai,
Chahta Hai Koi Beti Ka Pyar, Koi Paida Hone Se Pahle Deta Hai Mar,
Bete Ke Lalach Me Beti Ka Qatl, Un Logo Ki Soch Kitni Gareeb Hoti Hai!

Apni to mohabbat ki itni kahani hai, Shayari

Apni to mohabbat ki itni kahani hai,
Tooti hui kashti aur thera hua pani hai,
Ek phool kitabon me dam tor chuka hai,
Magar kuch yaad nahi aata yeh kis ki nishani hai. 💔

अपनी तो मोहब्बत की यही कहानी है,
टूटी हुई कश्ती ठहरा हुआ पानी है,
एक फूल किताबोँ मेँ दम तोड़ चुका है,
मगर याद नहीँ आता ये किसकी निशानी है। 💔

Safar Wahi Tak Hain Jaha Tak Tum Ho, Shayari

Safar Wahi Tak Hain Jaha Tak Tum Ho,
Nazar Wahi Tak Hain Jaha Tak Tum Ho,
Phool Bahut Dekhe Hain Is Gulshan Mein,
Khusbu Wahi Tak Hain Jaha Tak Tum Ho. 💕

सफर वहीं तक है जहाँ तक तुम हो,
नजर वहीं तक है जहाँ तक तुम हो,
हजारों फूल देखे हैं इस गुलशन में मगर,
खुशबू वहीं तक है जहाँ तक तुम हो! 💕

Ek Acha Dost Ek Phool Ki Tarah Hota Hai, Shayari

Ek Acha Dost Ek Phool Ki Tarah Hota Hai,
Jise Hum Chor Bhi Nahi Sakte Aur Tor Bhi Nahi Sakte,
Tor Dya To Murjha Jaega Aur
Chor Diya Toi Aur Le Jaega! 💞

अच्छा दोस्त एक फूल की तरह होता हे
जिसे हमछोड़ भी नही सकते ओर तोड़ भी नही सकते,
तोड़ दिया तो मुरझा जाएगा और
छोड़ दिया तो कोई और ले जाएगा! 💞

2 Line Shayari, Wo jo samjhe the

Wo jo samjhe the tamasha hoga,
maine chup reh ke baazi palat di.

Tu kaha hain, mere paas aa,
main kaha hoon, mujhe pataa chale.

Chaaro taraf lakadhaare hain,
fir bhi ped kahan haare hain.

Are o jalaane waale.. wo tera hi tha nasheman,
jise tune phoonk daala mera aashiyaan samajh kar.

Kal raat zindagi se mulaqaat ho gayi,
lab thartharaa rahe the magar baat ho gayi.

Tujhe kitna kaha tha ki mujhe apna na banaa,
ab mujhe chhod ke duniya me tamasha na banaa.

Ab dekhiye to kis ki jaan jaati hai,
maine uski.. usne meri kasam khaayi hai.

Gulab, khwaab, dawa, zaher, jaam kya kya hai,
main aa gaya hoon, bataa intezaam kya kya hai.

Mere mehboob ne waada kiya hai paan’chve din ka,
kisi se sun liya hoga ke, ye duniya chaar din ki hai.

Ek main tha, jo lafz dhoondh dhoondh kar thak gaya,
koi gair kharide huye phool de kar izhaar kar gaya.

Dosti Shayari, Phool bankar muskarana

Dosti Shayari

Phool bankar muskarana zindagi hai,
muskarake gum bhulana zindagi hai,
jeet kar koi khush ho to kya hua,
haar kar khushiya manana bhi zindagi hai!

फूल बनकर मुस्कुराना जिन्दगी है,
मुस्कुरा के गम भूलाना जिन्दगी है,
मिलकर लोग खुश होते है तो क्या हुआ,
बिना मिले दोस्ती निभाना भी जिन्दगी है!