Tag Archives: Nafrat

Nafrat Shayari

Bewafa Shayari, Wo mohabbat bhi teri thi, Wo nafrat bhi

Wo mohabbat bhi teri thi, Wo nafrat bhi Teri Thi,
Wo apnane aur Thukrane ki ada bhi teri thi,
Mai apni wafa ka insaaf Kisse Mangta..
Wo shahar bhi tera tha wo adalat bhi teri thi. 💔

वो मोहब्बत भी तेरी थी, वो नफ़रत भी तेरी थी,
वो अपनाने और ठुकरानी की अदा भी तेरी थी,
मे अपनी वफ़ा का इंसाफ़ किस से माँगता..
वो शहेर भी तेरा था, वो अदालत भी तेरी थी! 💔

Bewafa Shayari, Wo Paani Ki Lahro Par Kya Likh

Wo Paani Ki Lahro Par Kya Likh Raha Tha,
Khuda Jane Harf-E-Dua Likh Raha Tha,
Mahobat Me Mili Thi Nafrat Use Bhi Shayad,
Is Liye Har Sakhas Ko Shayad Bewafa Likh Raha Tha!

वो पानी की लहरों पे क्या लिख रहा था,
खुदा जाने वो क्या लिख रहा था,
महोब्बत में मिली थी नफरत उसे भी शायद,
इसलिए हर शख्स को शायद बेवफा लिख रहा था।

Yaad SHayari, Ye mat kahna ki teri

Ye mat kahna ki teri yaad se rishta nahi rakha,
mai khud tanha raha dil ko magar tanha nahi rakha,
tumhari chahton ke phool to mehfooz rakhe hai,
tumhari nafrato ki peedh ko zinda nahi rakha!

ये मत कहना कि तेरी याद से रिश्ता नहीं रखा,
मैं खुद तन्हा रहा पर दिल को तन्हा नहीं रखा,
तुम्हारी चाहतों के फूल तो महफूज रखे हैं,
तुम्हारी नफरतों की पीड़ को जिंदा नहीं रखा!

Bewafa Shayari, Kabhi usne bhi hume

Kabhi usne bhi hume chahat ka paigam likha tha,
Sab kuch usne apna humare naam likha tha,
Suna hai aaj unko humare jikar se bhi nafrat hai,
Jisne kbhi apne dil par humara naam likha tha.

कभी उसने भी हमें चाहत का पैगाम लिखा था,
सब कुछ उसने अपना हमारे नाम लिखा था,
सुना है आज उनको हमारे जिक्र से भी नफ़रत है,
जिसने कभी अपने दिल पर हमारा नाम लिखा था। 🍂

Hindi Shayari, Nafrat ko hum pyaar

नफरत को हम प्यार देते है,
प्यार पे खुशियाँ वार देते है,
बहुत सोच समझकर हमसे कोई वादा करना..
ऐ-दोस्त.. हम वादे पर जिदंगी गुजार देते है!!

Nafrat ko hum pyaar dete hain,
Pyaar pe khushi baar dete hain,
Bahut soch samjhkar humse vada karna,
Ae-dost hum vaade par Jindagi gujaar dete hain!!

Dard Shayari, Tune nafrat se jo dekha hai

तूने नफ़रत से जो देखा है तो याद आया,
कितने रिश्ते तेरी ख़ातिर यूँ ही तोड़ आया हूँ,
कितने धुंधले हैं ये चेहरे जिन्हें अपनाया है,
कितनी उजली थी वो आँखें जिन्हें छोड़ आया हूँ।

Tune nafrat se jo dekha hai to yaad aya,
Kitne rishte teri khaatir yunhi tod aayi hu..
Kitne dhundhle hain ye chehre jinhe apnaaya hai,
Kitni ujli thi wo aankhen jinhe chod aaya hu..