Bewafa Shayari, Kabhi jo humse pyar beshumaar karte the

कभी जो हम से प्यार बेशुमार करते थे,
कभी जो हम पर जान निसार करते थे,
भरी महफ़िल में हमको बेवफा कहते हैं,
जो खुद से ज़्यादा हमपर ऐतबार करते थे। 💔

Kabhi jo ham se pyar beshumaar karte the,
kabhi jo ham par jaan nisaar karte the,
bhari mahafil mein hamko bewafa kehte hain,
jo khud se zyaada hampar aitabaar karte the. 💔

Bewafa Shayari, Yun To Koi Bhi Tanha Nahi Hota

यू तो कोई तन्हा नहीं होता,
चाह कर किसी से जुदा नहीं होता,
मोहब्बत को मजबूरियां ले डूबती है,
वरना ख़ुशी से कोई बे वफ़ा नहीं होता!

Yun To Koi Bhi Tanha Nahi Hota,
Chah Kar Kisi Se Juda Nahi Hota,
Mohabbat Ko Majburiya Hi Le Dubti Hai,
Warna Koi Khushi Se Bewafa Nahi Hota.

Bewafa Shayari, Zindagi Se Bas Yahi Ek Gila Hai

Zindagi Se Bas Yahi Ek Gila Hai,
Khushi Ke Baad N Jane Kyon Gam Mila Hai,
Hamne To Ki Thi Wafa Unse Ji Bhar Ke,
Par Nahin Jaante The Ki Wafa Ke Badle Bewafaai Hi Sila Hai! 💔

ज़िंदगी से बस यही एक गिला है,
ख़ुशी के बाद न जाने क्यों गम मिला है,
हमने तो की थी वफ़ा उनसे जी भर के..
पर नहीं जानते थे कि वफ़ा के बदले बेवफाई ही सिला है। 💔

Bewafa Shayari, Ijazat ho to tere chahere ko

Ijazat ho to tere chahere ko dekh lu jee bhar ke..
muddaton se in aankhon ne koi bewafa nahin dekha.

इजाज़त हो तो तेरे चहेरे को देख लूँ जी भर के..
मुद्दतों से इन आँखों ने कोई बेवफा नहीं देखा।

Phir is Bewafa se haath milaana pada mujhe, Shayari

Duniyaan ko isaka chehara dikhana pada mujhe,
parda jo daramiyan tha hatana pada mujhe,
rusavaiyon ke khauph se mehfil mein aaj,
phir es Bewafa se haath milaana pada mujhe. 💔

दुनियाँ को इसका चेहरा दिखाना पड़ा मुझे,
पर्दा जो दरमियां था हटाना पड़ा मुझे,
रुसवाईयों के खौफ से महफिल में आज,
फिर इस बेवफा से हाथ मिलाना पड़ा मुझे। 💔