2 Line Shayari, Majboor nahi karege

मजबूर नही करेंगे तुझे वादे निभानें के लिए,
बस एक बार आ जा, अपनी यादें वापस ले जाने के लिए..!!


तुझसे मैँ इजहार ऐ मोहब्बत इसलिए भी नही करता,
सुना है बरसने के बाद बादलो की अहमियत नही रहती|


कागज अपनी क़िस्मत से उड़ता है और पतंग अपनी काबिलियत से,
क़िस्मत साथ दे या न दे पर काबिलियत जरुर साथ देगी..!!


“जान” थी वो मेरी,
और जान तो एक दिनचली ही जाती है ना..!!


हर मर्ज़ का इलाज़ मिलता था उस बाज़ार में,
मोहब्बत का नाम लिया दवाख़ाने बन्द हो गये|


तमन्नाओ की महफ़िल तो हर कोई सजाता है,
पूरी उसकी होती है जो तकदीर लेकर आता है..!!


वो जब पास मेरे होगी तो शायद कयामत होगी,
अभी तो उसकी तस्वीर ने ही तवाही मचा रखी है|


लोग कहते है हर दर्द की एक हद होती है,
कभी मिलना हमसे हम वो सीमा अक्सर पार करके जाते है|


पतझड आती है तो पते टूट जाते है,
नया साथ मिल जाए तो पुराने छूट ही जाते है|


फिर पलट रही हे सदिॅयो सी सुहानी रातें,
फिर तेरी याद मे जलने के जमाने आ गए|

Sad Shayari, Kitne Majboor Hain Hum

कितने मजबूर हैं हम प्यार के हाथों,
ना तुझे पाने की औकात…
ना तुझे खोने का हौसला।

Kitne Majboor Hain Hum Pyar Ke Hathon,
Na Tujhe Pane Ki Oukaat,
Na Tujhe Khone Ka Hosla…

Tere liye khudko majboor kar liya

Tere liye khudko majboor kar liya,
Zakhmo ko apne nasoor kar liya,
Mere dil mein kya tha ye jaane bina,
Kune khudko humse kitna door liya.

तेरे लिए खुद को मजबूर कर लिया,
ज़ख्मो को अपने नासूर कर लिया,
मेरे दिल में क्या था ये जाने बिना,
तुने खुद को हमसे कितना दूर कर लिया!

Teri yaado ne paigaam bhi aisa bheja, Shayari

मेरे ख्वाबो का अब कोई आशियाना नहीं है,
अपने दर्दो को मुझे अब मिटाना नही है,
मेरी मजबूरियो का फसाना भी क्या अजीब है,
मुझे रोना है पर किसी को बताना नही है,
तेरी यादो ने पैगाम भी ऐसा भेजा ए-सनम,
तडपना है हर पल पर एहसास जताना नहीं है! 😔💕

Mere khwabo ka ab koi aashiyana nahin hai,
apane dardo ko mujhe ab mitana nahi hai,
meri majbooriyo ka fasana bhi kya ajeeb hai,
mujhe rona hai par kisi ko batana nahi hai,
teri yaado ne paigaam bhi aisa bheja e-sanam,
tadapna hai har pal par ehasaas jatana nahin hai! 😔💕