2 Line Shayari #231, Taras Jaoge hamare labo se

तरस जाओगे हमारे लबों से सुनने को एक लफ्ज भी,
प्यार की बात तो क्या हम शिकायत तक नहीं करेंगे। 💘

बेशक नजरों से दूर हो,
पर तुम मेरे सबसे करीब हो। 💞

ज़िक्र बेवफाओँ का था रात सर-ए-महफ़िल मे,
झुका मेरा भी सिर जब मेरे यार का नाम आया। 😔

मैं तो अपने ही जज्बातों में खोई थी,
एहसास ही नहीं हुआ कि कब तुम मेरी एहसास बन गये। 💞

कितनी बन्दिशें कितनी हदें कितनी रस्मों,
को तोड़ा है.. मेने इक तुमसे जुड़े रहने के लिए। ❣ 💕

(more…)

Mujhe bhi ab neend ki talab nahin rahi, Shayari

Mujhe bhi ab neend ki talab nahin rahi,
Ab raaton ko jagna accha lagta hain,
Mujhe nahi malum wo meri kismat me hai ki nahi,
Magar use khuda se mangna achha lagta hai. 💔 😢

मुझे भी अब नींद की तलब नहीं रही,
अब रातों को जागना अच्छा लगता है,
मुझे नहीं मालूम वो मेरी किस्मत में है या नहीं,
मगर उसे खुदा से माँगना अच्छा लगता है। 💔 😢

Hot Poetry, Labon ki sarsarahat

Labon ki sarsarahat 💋
Labon ki sarsarahat se,
badan kr choor hone tak,
Main tujh ko is tarah chahoon,
Ke meri saans ruk jaye,
Khataon par khataain ho,
Na ho kuch baat kehne ko,
Main tujh main yoon sama jaau,
Ke meri saans ruk jaye,
Na himmat tujh main ho baqi,
Na himmat mujh main ho baqi,
Magar itna qareeb aaoun.
Ke meri saans ruk jaye.
Tere honton pe jab rakhoon.
Main apne hont kuch aise.
Ya teri PYAAS bujh jaye.
Ya meri saans ruk Jaye.

2 Line Shayari, Talab Esi ki

तलब ऐसी कि सांसों में समा लूं तुझे,
किस्मत ऐसी कि देखने को मोहताज हूं तुझे।


तेरे होने का जिसमें किस्सा है,
वही मेरी जिंदगी का बेहतरीन हिस्सा है।


मुझे भी पता है कि तुम मेरी नहीं हो,
इस बात का बार बार एहसास मत दिलाया करों।


याद महबूब की और शिद्दत गर्मी की,
देखते हैं.. हमें कौन.. बीमार करता है।


गज़ब की बेरुख़ी छाई हे तेरे जाने के बाद,
अब तो सेल्फ़ी लेते वक़्त भी मुस्कुरा नही पाते।


हाल मीठे फलों का मत पूछिए साहब,
रात दिन, चाकू की नोंक पे रहते है।


कभी तुम पूछ लेना, कभी हम भी ज़िक्र कर लेगें,
छुपाकर दिल के दर्द को, एक दूसरे की फ़िक्र कर लेंगे।


शाम ढले ये सोच के बैठे हम तेरी तस्वीर के पास,
सारी ग़ज़लें बैठी होंगी अपने-अपने मीर के पास।


निगाहें नाज़ करती है फ़लक के आशियाने से,
खुदा भी रूठ जाता है किसी का दिल दुखाने से।


शायरी पढ़ने तक ही ताल्लुक रखते है लोग,
किसी ने अभी तक हमारी महबूबा का नाम तक नहीं पूछा।

🌹 Gulab Shayari Collection

Tumhari is ada ka kya jawab du,
apne dost ko kya uphar du,
koi acha sa phool hota to mali se mangwate,
jo khud gulab hai usko kya gulab du.. 🌹

Phulo Mein Haseen gulab Hai,
Parhai Ke Liye Zaroori Kitaab Hai,
Duniya Me Har Sawal Ka Jawab Hai,
Agar Koi Tumse Mere Bare Me Puche To Kehna Wo Lajawaab Hai. 🌹

SMS ban ke chala ja tu gulab,
hogi sachi dosti to aye ga jawab,
agar na aaye to tu mat hona udas,
tu samajah lena hamare liye waqt nahin hai unke pass. 🌹

Barso baad na jaane kaun kaha hoga,
hum dono me se na jaane kaun kaha hoga,
phir milna hua to milenge khwabo me,
jaise sukhe gulab milte hain kitabo me. 🌹

Kaun sa phool paish karon,
Koi phool gulab nahin,
Aap to khud aik gulab hain,
Jiska koi jawab naheen.. 🌹

Lamho Lamho per Khwaab Likhoonga,
Apni zindagi per kitaab likhoonga,
Aapki gardan (neck) ko phoolon ki tehni,
Aur aapke chehre ko gulab likhoonga. 🌹

Soch raha tha k jawab kya bheju,
aap jaise dost ko toofa kya bheju,
guldasta bhejna to bewakufi hogi,
kyu k jo khud gulab hai use gulab kya bheju. 🌹

Zindgi Ka Har Khwab Haqiqat Ban Jaye,
Khushi K Chirago Se Zindgi Roshan Ho Jaye,
Mehak Jaye U Zindagi Apki,
Ki gulab Ki Khushbu Bhi Apke Samne Feeki Pad Jaye. 🌹

For More: Gulab Shayari