Sad Shayari, Roye hai buhat

Roye Hai Buhat Tab Zara Karaar Mila Hai,
Is Jahan Mein Kise Bhala Sacha Pyaar Mila Hai,
Guzar Rahi Hai Zindagi Imtehan Ke Daur Se,
Ek Khatam Hua Toh Dusra Tayar Mila Hai.

रोया हूँ बहुत तब जरा करार मिला है,
इस जहाँ में किसे भला सच्चा प्यार मिला है,
गुजर रही है जिंदगी इम्तिहान के दौर से,
एक ख़तम तो दूसरा तैयार मिला है।

Related Shayari: