Sad SHayari, Meri fitrat mein nahin hai kisi se naraj hona

मेरी फितरत में नहीं है किसी से नाराज होना,
नाराज वो होते है जिसे खुद पर गुरुर होता है।

Meri fitrat mein nahin hai kisi se naraj hona,
Naraj wo hote hai jise khud par gurur hota hai.

Related Shayari: