Sad Shayari, Koi khusiyo ki chah main roya

कोई खुशियों की चाह में रोया,
कोई दुखों की पनाह में रोया,
अजीब सिलसिला हैं ये ज़िंदगी का..
कोई भरोसे के लिए रोया,
कोई भरोसा कर के रोया!! 😢💔

Koi khusiyo ki chah main roya,
Koi dukhon ki panah main roya,
Ajeeb silsila hai ye zindagi ka,
Koi bharose ke liye roya,
Toh koi bharosa karke roya. 😢💔

Related Shayari: