Sad SHayari, Har roz kha jaate the wo kasam

हर रोज़ खा जाते थे वो कसम मेरे नाम की,
आज पता चला की जिंदगी धीरे धीरे ख़त्म क्यूँ हो रही है। 🍂

Har roz kha jaate the wo kasam mere naam ki,
Saj pata chala ki zindagi dhire dhire khatm kyun ho rahi hai. 🍂

Related Shayari: