Sad Poetry, हम गमो को छिपाने का कारोबार करते है

हम गमो को छिपाने का कारोबार करते है,
कसूर बस इतना है की हम गम देने वाले से ही प्यार करते है।

Hindi Sad Shayari, Log Mere Aashiyane Ki Tarif

Hindi Sad Shayari, Log Mere Aashiyane Ki Tarif

लोग मेरे आशियाने की तारीफ़ किया करते हैं,
हम उसी तारीफ़-ए-आशियाँ में घुट-घुट के जीया करते हैं।

हकिकत की रस्सियों पे लटककर,
न जाने कितने ही ख्वाब खूदकुशीं कर गये।

कुछ हम भी लिख दे उन के बारे मे
आज गर आप कि इजाजत हो तो,
दर्द ऎ दिल मे बहुत हे बया कर दे
गर आप के इजाजत हो तो।

मुस्कुरा तो हम सरेआम भी लेते हैं,
अदब तो आँसुओं मे है… जो सिर्फ तन्हाइयों मे आते हैं।

वहां से पानी की एक बूंद भी ना निकली,
तमाम उम्र जिन आंखों को झील लिखते रहे हम।

यह लफ्जों के मरहम,
ये दुआएं अब काम नहीं करते.. जख़्म पुराने हो गए हैं।

Related Shayari: