Ab Kyun Takleef Hoti Hai Tumhien Iss Berukhi Se

वो चाँदनी का बदन खुशबुओं का साया है,
बहुत अजीज़ हमें है मगर पराया है,
उसे किसी की मोहब्बत का ऐतबार नहीं,
उसे ज़माने ने शायद बहुत सताया है।
Woh Chaandni Ka Badan Khushbuon Ka Saaya Hai,
Bahut Ajeez Humein Hai Magar Paraya Hai,
Usey Kisi Ki Mohabbat Ka Aitbaar Nahi,
Usey Zamane Ne Shayad Bahut Sataya Hai.

अब तुम को भूल जाने की कोशिश करेंगे हम
तुम से भी हो सके तो न आना ख़याल में।
Ab TumKo Bhool Jaane Ki Koshish Karenge Hum,
Tum Se Bhi Ho Sake Toh Na Aana Khayal Mein.

Dard Bhari Shayari, Ab Kyu Taklif Hoti Hai

Dard Bhari Shayari, Ab Kyu Taklif Hoti Hai

अब क्यूँ तकलीफ होती है तुम्हें इस बेरुखी से,
तुम्हीं ने तो सिखाया है कि दिल कैसे जलाते हैं।
Ab Kyun Takleef Hoti Hai Tumhien Iss Berukhi Se,
Tumhin Ne Toh Sikhaya Hai Ke Dil Kaise Jalate Hain.

बिछड़ के हम से फिर किसी के भी न हो सकोगे,
तुम मिलोगे सब से मगर हमारी ही तलाश में।
Bichhad Ke Humse Phir Kisi Ke Bhi Na Ho Sakoge,
Tum Miloge Sab Se Magar Humari Hi Talaash Mein.

नजर-अंदाज़ करते हो लो हट जाते हैं नजरों से,
इन्हीं नजरों से ढूंढोगे नजर जब हम न आयेंगे।
Najar-Andaz Karte Ho Lo Hat Jate Hain Nazron Se,
Inhi Najron Se Dhundhoge Najar Jab Hum Na Aayenge.

मेरे हाथों से मेरी तकदीर भी वो ले गया,
आज अपनी आखिरी तस्वीर भी वो ले गया।
Mere Haathon Se Meri Taqdir Bhi Woh Le Gaya,
Aaj Apni Aakhiri Tasvir Bhi Woh Le Gaya.

अब क्या जवाब दूँ मैं कोई मुझे बताये,
वह मुझसे कह रहे हैं क्यों मेरी आरज़ू की।
Ab Kya Jawaab Dun Main Koi Mujhe Bataye,
Woh Mujhse Keh Rahe Hain Kyun Meri Aarzoo Ki.

कभी तो अपना वजूद हम पर लुटा के देख,
क्यों दो कदम चलकर तेरा यकीन ठहर जाता है।
Kabhi Toh Apna Wajood Hum Par Luta Ke Dekh,
Kyu Do Kadam Chalkar Tera Yakeen Thahar Jata Hai.

मेरे किस्से सर-ए-बाज़ार उछाले उसने,
जिस का हर ऐब ज़माने से छुपाया मैंने।
Mere Kisse Sar-e-Bazaar Uchhaale Usne,
Jis Ka Har Aib Zamaane Se Chhupaya Maine.

तुम ना लगा पाओगे अंदाजा मेरी तबाही का,
तुमने देखा ही कहाँ है मुझको शाम के बाद।
Tum Na Laga Paoge Andaza Meri Tabahi Ka,
Tumne Dekha Hi Kahan Hai Mujhko Shaam Ke Baad.

Related Shayari: