Aaj phir e tanhai lag ja gale, Shayari

Aaj phir e tanhai lag ja gale,
ke tujhse lipat ke rone ka bahut dil hai,
ek too hee to hai hamsaya zindagi ka meri..
varna yahan to har rishta, meri rooh ka katil hai! 😢

आज फिर ए तन्हाई लग जा गले,
के तुझसे लिपट के रोने का बहुत दिल है,
एक तू ही तो है हमसाया जिंदगी का मेरी..
वरना यहां तो हर रिश्ता, मेरी रूह का कातिल है! 😢

Related Shayari: