Sad Shayari, Mohabbat ki daastan sunane aaye hain

Mohabbat ki daastan sunane aaye hain,
Tabaah krne k bad wo pyar jatane aye hai
Aansu pochh liye the hamnein kab ke
Magar wo fir se aaj hume rulane aaye hai. 😢

मोहब्बत की दास्तान सुनाने आये हैं,
तबाह करने क बाद वो प्यार जताने आये है,
आंसू पोंछ लिए थे हमनें कब के,
मगर वो फिर से आज हमे रुलाने आये है। 😢

Apni to mohabbat ki itni kahani hai, Shayari

Apni to mohabbat ki itni kahani hai,
Tooti hui kashti aur thera hua pani hai,
Ek phool kitabon me dam tor chuka hai,
Magar kuch yaad nahi aata yeh kis ki nishani hai. 💔

अपनी तो मोहब्बत की यही कहानी है,
टूटी हुई कश्ती ठहरा हुआ पानी है,
एक फूल किताबोँ मेँ दम तोड़ चुका है,
मगर याद नहीँ आता ये किसकी निशानी है। 💔

2 Line Shayari #214, Mohabbat ka sabak

मुहब्बत का सबक बारिश से सीखो,
जो फूलो के साथ काँटो पर भी बरसती है।

जिंदगी अजनबी मोड़ पर ले आई है,
तुम चुप हो मुझ से और मैँ चुप हूँ सबसे। 😔

तेरा इश्क़ ऐसा जैसे बंधन पाँव का,
मेरा इश्क़ ऐसा जैसे संबंध छाँव का।

क्या खूब होता अगर दुख रेत के होते,
मुठ्ठी से गिरा देते पैरो से उड़ा देते।

नहीं मांगता ऐ खुदा कि जिंदगी सौ साल की दे,
दे भले चंद लम्हों की लेकिन कमाल की दे।

आए हैं वो मरीज़-ए-मोहब्बत को देख कर,
आँसू बता रहे हैं कोई और बात हो गयी। 😔

थोड़े और की आरजू तो मरते दम तक रहेगी,
चंद ख्वाइशों से पूरी कहां होगी हसरत।

इश्क़ के तोहफ़े तुम क्या जानो सनम,
तुमने तो इश्क़ भी ऐसे किया जैसे खरीदा हो।

सूरज की किरणों से मिट्टी भी सुनहरी हो जाती है
सोहबते सचमुच कमाल करती हैं

तुम्हारा ख्याल भी एक महक की तरह है,
एक बार आ जाए, तो पूरा दिन मेरे ज़हन में रहता है 💖

Love Shayari, Mohabbat To Sirf Ek Ittefaq Hai

Mohabbat To Sirf Ek Ittefaq Hai,
Ye To Do Dilo Ki Mulakat Hai,
Mohabbat Ye Nahi Dekhti Ki Din Hai Yaa Raat Hai,
Ismein To Sirf Wafadari Aur Jajbaat Hai! 💖

मोहब्बत तो सिर्फ एक इत्तेफाक है,
ये तो दो दिलों की मुलाकात है,
मोहब्बत ये नहीं देखती कि दिन है या रात है,
इसमें तो सिर्फ वफादारी और जज़्बात है। 💖

Bewafa Shayari, Wo mohabbat bhi teri thi, Wo nafrat bhi

Wo mohabbat bhi teri thi, Wo nafrat bhi Teri Thi,
Wo apnane aur Thukrane ki ada bhi teri thi,
Mai apni wafa ka insaaf Kisse Mangta..
Wo shahar bhi tera tha wo adalat bhi teri thi. 💔

वो मोहब्बत भी तेरी थी, वो नफ़रत भी तेरी थी,
वो अपनाने और ठुकरानी की अदा भी तेरी थी,
मे अपनी वफ़ा का इंसाफ़ किस से माँगता..
वो शहेर भी तेरा था, वो अदालत भी तेरी थी! 💔

2 Line Shayari #204, Mohabbat me wo pal

मोहब्बत मे वह पल बहोत खूबसूरत होता है,
जब देखना इबादत और छूना गुनाह लगता है।

जहर का भी अपना हिसाब है मरने के लिए जरा सा,
और जीने के लिए बहुत सारा पीना पड़ता है।

दूरी ने कर दिया है तुझे और भी करीब,
तेरा ख़याल आ कर न जाये तो क्या करें हम।

मेरी तमन्ना न थी, तेरे बगैर रहने की लेकिन,
मजबूर को, मजबूर की, मजबूरीयां, मजबूर कर देती है।

कभी शब्दो में तलाश न करना वजूद मेरा.. दोस्तों,
मैं उतना लिख बोल नहीं पाता.. जितना महसूस करता हूँ।

ख्वाहिशें आज भी खत लिखती है हमे बेखबर,
इस बात से है कि, जिंदगी अब अपने पते पर नही रहती।

ख़्वाहिशें नहीं होतीं, किसी उम्र की मोहताज,
कुछ शौक अगर जीने लगे तो.. साँसे भी कम पड़ जाती हैं।

दिल कहता है की लिख दू, इक नजम तेरे नाम की,
तुझे खुश ना कर पाऊ तो ये ज़िन्दगी किस काम की।

ना किया कर अपने दर्द को शायरी में ब्यान ऐ नादान दिल,
कुछ लोग टूट जाते हैं इसे अपनी दास्तान समझकर।

प्यार वो नहीं जो हाँसिल करने के लिये कुछ भी कर दे,
प्यार वो है जो उसकी ख़ुशी के लिये अपने अरमान छोड़ दे।

Love Shayari, Mohabbat Ko Jo Nibhate Hai Unko Mera Salaam Hai

Mohabbat Ko Jo Nibhate Hai Unko Mera Salaam Hai,
Aur Jo Bich Raaste Me Chhod Jaate Hai Unko,
Hamara Ye Paigaam Hai..
Vaada-E-Vafa Kro To Fir Khud Ko Fanna Kro,
Vrna Khuda Ke Liye Kisi Ki Jindgi Na Tabaah Karo! 💔

मोहबत को जो निभाते हैं उनको मेरा सलाम है,
और जो बीच रास्ते में छोड़ जाते हैं उनको,
हमारा ये पेघाम हैं..
वादा-ए-वफ़ा करो तो फिर खुद को फ़ना करो,
वरना खुदा के लिए किसी की ज़िंदगी ना तबाह करो! 💔

Love Shayari, Mohabbat ki zanjeer

Mohabbat Ki Zanjeer Se Dar Lagta Hai
Kuch Apni Taqdeer Se Dar Lagta Hai
Jo Mujhe Tujh Se Juda Karti Hai,
Haath Ki Uss Lakeer Se Dar Lagta hai. 😔

मोहब्बत कि ज़ंज़ीर से डर लगता हे,
कुछ अपनी तफलीक से डर लगता हे,
जो मुझे तुजसे जुदा करते हे,
हाथ कि वो लकीरो से डर लगता हे। 😔

Love Shayari, Pehli mohabbat thi

Pehli mohabbat thi meri hum jaan na sake,
Pyar kya hota hain wo pehchan na sake,
Humne unhe dil me basaya hai iss kadar ki,
Jab bhi chaha dil se hum usse nikal na sake. 💝

पहली मोहब्बत मेरी हम जान न सके,
प्यार क्या होता है हम पहचान न सके,
हमने उन्हें दिल में बसा लिया इस कदर कि,
जब चाहा उन्हें दिल से निकाल न सके। 💝

Love Shayari, Mohabbat mujhe thi

Mohabbat Mujhe Thi Usi Se Sanam,
Yaadon Mein Uski Yeh Dil Tadpta Raha,
Maut Bhi Meri Chahat Ko Rok Na Saki,
Kabr Mein Bhi Yeh Dil Dhadkta Raha. 💖

मोहब्बत मुझे थी उसी से सनम,
यादों में उसकी यह दिल तड़पता रहा,
मौत भी मेरी चाहत को रोक न सकी,
कब्र में भी यह दिल धड़कता रहा। 💖