Motivational Shayari, Safar ki had hain wahan tak

सफ़र की हद है वहां तक की कुछ निशान रहे,
चले चलो की जहाँ तक ये आसमान रहे,
ये क्या उठाये कदम और आ गयी मंजिल,
मज़ा तो तब है के पैरों में कुछ थकान रहे! ✍🚶

Safar ki had hain wahan tak ke kuch nishan rahe,
Chale chalo ke jahan tak ye asman rahe,
Ye kya uthaye kadam aur aa gai manzil,
Maza to jab hain ke pairon may kuch thakan rahe! ✍🚶

Related Shayari: