Yu hi bewajah ek tasveer ret par

यूँ ही बेवजह एक तस्वीर रेत पर उकेरती हैं उँगलियाँ,
लिख कर तेरा नाम जमीं पर मिटा देती हैं उँगलियाँ,
है मालूम कि लहरों को नहीं रास ये आने वाला,
चंद लम्हों में..
जी भर के एहसास-ए-मोहब्बत जी लेती हैं उँगलियाँ। 📖✍

Yu hi bewajah ek tasveer ret par ukerti hain ungliyaan,
Likh kar tera naam jameen par mita deti hain ungliyaan,
Hai maloom ki lahron ko nahin raas ye aane waala,
Chand lamhon mein..
Jee bhar ke ehasaas-e-mohabbat jee leti hain ungliyaan. 📖✍

Related Shayari: