Love Shayari, Tere intjar me kab se

Tere intjar mein kab se udas baithe hain,
tere didar mein ankhe bichaye baithe hain,
tu ek nazar ham ko dekh le bas,
is aas mein kab se bekrar baithe hain.

तेरे इंतजार में कब से उदास बैठे हैं,
तेरे दीदार में आँखे बिछाये बैठे हैं,
तू एक नज़र हम को देख ले बस,
इस आस में कब से बेकरार बैठे हैं।

Related Shayari: