Love Shayari, Kabhi Kabher hi sahi

Kabhi Kabher hi sahi, milne k bahane chahiye,
Ise dil ko yaado k aashiyane chahiye,
Jinse ho jaati hai zindagi janat meri,
Nigaho ko bs wo thikana chahiye.

कभी कभार ही सही, मिलने के बहाने चाहिए,
इस दिल को यादों के आशियाने चाहिए ,
जिनसे हो जाती है ज़िन्दगी ज़न्नत मेरी,
निगाहों को बस वो ही ठिकाने चाहिए..

Related Shayari: