Kabhi Na Kabhi Wo Mere Bare Me Sochengi

Kabhi Na Kabhi Wo Mere Bare Me Sochengi Zaroor,
Ki Haasil Hone Ki Ummid Bhi Nahi Hai Phir Bhi Pyaar Karta Hai Mujse!

कभी न कभी वो मेरे बारे में सोंचेगी ज़रूर..
के हासिल होने की उम्मीद भी नही थी, फिर भी वफ़ा करता था!

Related Shayari: