Ishq dil mein ho aur mann mein chor na ho

इश्क़ दिल में हो और मन में चोर ना हो,
बादल बरसे और शोर ना हो,
रात जाये फिर भी भोर ना हो,
कलियाँ चटके भौंरों का शोर ना हो,
उफ्फ.. इतनी क़ातिल अदाओ पर भी गौर ना हो,
तलाश.. तुम पर ही खत्म,
हमसफर अब कोई और ना हो। 🌹 💞

Related Shayari: