Dekh meri aankhon mein khwab kiske hain, Shayari

देख मेरी आँखों में ख्वाब किसके हैं,
दिल में मेरे सुलगते तूफ़ान किसके हैं,
नहीं गुज़रा कोई आज तक इस रास्ते से हो कर,
फिर ये क़दमों के निशान किसके हैं। 💘 🚶

Dekh meri aankhon mein khwab kiske hain,
dil mein mere sulagte tufaan kisake hain,
nahin guzara koi aaj tak is raste se ho kar,
phir ye kadmo ke nishan kiske hain. 💘 🚶

Related Shayari: