Zindagi jaise jalani thi waise jala, Shayari

Zindagi jaise jalani thi waise jala dee hamane ghalib.
ab dhuen par bahas kaisi aur raakh par aitaraj kaisa!! 🔥

जिंदगी जैसे जलानी थी वैसे जला दी हमने गालिब..
अब धुएँ पर बहस कैसी और राख पर ऐतराज कैसा!! 🔥

Related Shayari: