Kisi din zindagani mein karishma kyun nahin hota, Shayari

किसी दिन ज़िंदगानी में करिश्मा क्यूं नहीं होता,
हर दिन जाग जाता हूँ ज़िन्दा क्यूं नहीं होता,
मेरी इक ज़िन्दगी में कितने हिस्सेदार हैं लेकिन,
किसी की ज़िंदगी में मेरा हिस्सा क्यूं नहीं होता! 😔

Kisi din zindagani mein karishma kyun nahin hota,
main har din jaag to jata hun zinda kyun nahin hota,
meri ek zindagi ke kitne hissedar hai lekin,
kisi ki zindagi mein mera hissa kyun nahin hota. 😔

Related Shayari: