Apani hi tarah se pareshan hai har koi

अपनी ही तरह से परेशान है हर कोई,
इस तपती धूंप के लिए कोई दरख़्त नहीं है,
किसी के पास खाने के लिये रोटी नहीं है,
और किसी के पास रोटी खाने का वक़्त नहीं है!

Apani hi tarah se pareshan hai har koi,
is tapati dhup ke lie koee darakht nahin hai,
kisi ke paas khaane ke liye roti nahin hai,
aur kisi ke paas roti khaane ka waqt nahin hai!

Related Shayari: