Woh Andhera Hi Sahi Tha, Shayari

Woh Andhera Hi Sahi Tha Ki Kadam Rah Par The,
Roshni Le Aaye Muje Manzil Se Bahot Door.

वह अँधेरा ही सही था कि कदम राह पर थे,
रौशनी ले आये मुझे मंज़िल से बहुत दूर.

Related Shayari: