Waqt to ab lafzo mein diya jata hai, Shayari

Waqt to ab lafzo mein diya jata hai,
rubaru to mahaj dikhawa kiya jata hai. 😔

वक़्त तो अब लफ़्ज़ों में दिया जाता है,
रूबरू तो महज दिखावा किया जाता है। 😔

Related Shayari: