Mere shayari ki chhav mein akar

Mere shayari ki chhav mein akar baith jate hain,
Wo log jo mohabbat ki dhup mein jale hote hain! 💙

मेरे शायरी की छांव में आकर बैठ जाते हैं,
वो लोग जो मोहब्बत की धूप में जले होते हैं! 💙

Related Shayari: