Love Shayari, Meri saanson mein bikhar jao

Meri saanson mein bikhar jao toh acha hai,
Ban k rooh mere jism me utar jao to acha hai,
Kisi raat teri godh mein sar rakh kar so jau,
Us raat ki kabhi subah na ho toh achha hai.

मेरी साँसों में बिखर जाओ तो अच्छा है,
बन के रूह मेरे जिस्म में उतार जाओ तो अच्छा है,
किसी रात तेरी गोद में सिर रख कर सो जाओं मैं,
उस रात की कभी सुबह ना हो तो अच्छा है!

Related Shayari: