Inspirational Shayari, Tu zindagi ko jee

तू जिंदगी को जी,
उसे समझने की कोशिश न कर
सुन्दर सपनो के ताने बाने बुन,
उसमे उलझने की कोशिश न कर
चलते वक़्त के साथ तू भी चल,
उसमे सिमटने की कोशिश न कर
अपने हाथो को फैला, खुल कर साँस ले,
अंदर ही अंदर घुटने की कोशिश न कर
मन में चल रहे युद्ध को विराम दे,
खामख्वाह खुद से लड़ने की कोशिश न कर
कुछ बाते भगवान् पर छोड़ दे,
सब कुछ खुद सुलझाने की कोशिश न कर
जो मिल गया उसी में खुश रह,
जो सकून छीन ले वो पाने की कोशिश न कर
रास्ते की सुंदरता का लुत्फ़ उठा,
मंजिल पर जल्दी पहुचने की कोशिश न कर !

Tu zindagi ko jee,
Usey samajhne ki koshish na kar
Sunder sapno ke taane baan bunn,
Usme ulajne ki koshish na kar
Chalte waqt ke sath tu b chal,
Usme simatne ki koshish na kar
Apne haathon ko faila , khul kar saans le,
Ander hi ander guthne ki koshish na kar
Mann me chal rahe yudh ko viraam de,
Khwamkha khudse ladne ki koshish na kar
Kuch baatein uprwale par chod de,
Sab kuch khud suljhane ki koshish na kar
Jo mil gaya usi me khush reh,
Jo sukoon chin le woh pane ki koshish na kar
Raste ki sundarta ka luft utha,
Manzil par jaldi pahuchne ki koshish na kar.

Related Shayari: