Hindi Shayari, Niklu agar maikhane se

निकलूं अगर मयखाने से तो
शराबी ना समझना दोस्त,
मंदिर से निकलता..
हर शख्स भी तो भक्त नहीं होता!

Related Shayari: