Hindi Shayari, Kaun puri tarah kabil hai

Kaun puri tarah kabil hai..
Kaun puri tarah pura hai..
Har ek shaks kahi na kahi..
Kisi jagah thoda sa adhoora hai.

कौन पूरी तरह काबिल है..
कौन पूरी तरह पूरा है..
हर एक शक्स कही न कही..
किसी जगह थोड़ा सा अधूरा है।

Related Shayari: