Hindi Shayari, Dhadkan kashi ho jati hai

धड़कन काशी हो जाती है,
जब साँसें प्यासी हो जाती है,
अँखियों में मदीना झलकता है,
जब रूह सन्यासी हो जाती है। ✍

Dhadkan kashi ho jati hai,
jab saansen pyaasi ho jati hai,
ankhiyon mein madina jhalkata hai,
jab rooh sanyaasi ho jati hai. ✍

Related Shayari: