Hajaro phool chahie ek mala banane ke lie, Shayari

हजारो फूल चाहिए एक माला बनाने के लिए,
हजारों दीपक चाहिए एक आरती सजाने के लिए..
हजारों बून्द चाहिए समुद्र बनाने के लिए,
पर स्त्री अकेली ही काफी है.. घर को स्वर्ग बनाने के लिये!

Hajaro phool chahie ek mala banane ke lie,
hajaron deepak chahie ek aarti sajane ke lie..
hajaron bund chahie samudr banane ke lie,
par stri akeli hee kafi hai.. ghar ko svarg banane ke liye!

Related Shayari: