Dosti Shayari, Gunha Karne Se Darte Hai

गुनाह करके सजा से डरते हैं,
ज़हर पी के दवा से डरते हैं,
दुश्मनों के सितम का खौफ नहीं हमें,
हम तो दोस्तों के खफा होने से डरते है।

Gunah Karke Saza Se Darte Hain,
Zahar Pee Ke Dawa Se Darte Hain,
Dushmano Ke Sitam Ka Khauff Nahi,
Hum Toh Doston Ki Wafa Se Darte Hain!

Related Shayari: