Aarzoo tamaam pighalne lagi hai, Shayari

आरजू तमाम पिघलने लगी हैं,
लो और एक शाम फिर से ढलने लगी है,
हसरत-ए-मुलाकात का शौक है बस,
ये ज़िद भी तो हद से गुजरने लगी है!

Aarzoo tamaam pighalne lagi hai,
lo aur ek shaam phir se dhalane lagee hai,
hasarat-e-mulaakaat ka shauk hai bas,
ye zid bhi to had se gujarane lagee hai!

Related Shayari: