Dosti To Sirf Ek Ittefaq Hai, Shayari

Dosti To Sirf Ek Ittefaq Hai,
Ye To Dilon Ki Mulakat Hai,
Dosti Nahi Dekhti,
Din Hai Ki Raat Hai,
Isme To Sirf Wafadari Aur Jasbaat Hota Hai! 👬

दोस्ती तो सिर्फ एक इत्तेफ़ाक़ है,
ये तो दिलों की मुलाक़ात है,
दोस्ती नहीं देखती,
दिन है की रात है,
इसमें तो सिर्फ वफादारी और जज़्बात होता है! 👬

Related Shayari: