Dost Shayari, Muskurahat ka koi mol

Muskurahat ka koi mol nahi hota
Kuch risto ka koi tol nahi hota
Log to mil jate hai har modh par ..
Har koi aap ki taraha anmol nahi hota.

मुस्कराहट का कोई मोल नहीं होता,
कुछ रिश्तों का कोई तोल नहीं होता,
लोग तो मिल जाते है हर मोड़ पर..
हर कोई आप सब की तरह अनमोल नहीं होता!

Related Shayari: