Dard Shayari, Wo raat behad dard or sitam ki raat hogi

Wo raat behad dard or sitam ki raat hogi,
Jis raat ruksat uski baraat hogi,
Toot jaati hai meri neend hamesha ye sochkar,
Ki kisi aur ki baahon mein meri poori kaaynaat hogi !!

वो रात दर्द और सितम की रात होगी,
जिस रात रुखसत उनकी बारात होगी,
उठ जाता हु मैं ये सोचकर नींद से अक्सर,
के एक गैर की बाहों में मेरी सारी कायनात होगी.

Related Shayari: