Love Shayari, Tujhe palko pe

beauty love shayari

Tujhe palko pe bithane ko jee chahta hai
Teri baho se lipatne ko jee chahta hai,
Khubsurti ki intehaa hain tu,
Tuje zindagi me basane ko jee chahta hai.

तुझे पलकों पे बिठाने को जी चाहता है
तेरी बाहों से लिपटने को जी चाहता है,
खूबसूरती की इंतेहा हैं तू,
तुझे ज़िन्दगी में बसाने को जी चाहता है।

Beauty Shayari, Palkon ko jab-jab

Palkon ko jab-jab aapne jhukaya hai,
Bas ek hi khayal dil mein aaya hai.
Ki jis khuda ne tumhein banaya hai,
Tumhein dharti par bhejkar woh kaise jee paya hai.

पलकों को जब-जब आपने झुकाया है,
बस एक ही ख्याल दिल में आया है,
कि जिस खुदा ने तुम्हें बनाया है,
तुम्हें धरती पर भेजकर वो कैसे जी पाया है।

Love Shayari, Kab unki palkon se

Kab Unki Palkon Se Izhaar Hoga,
Dil K Kisi Kone Mein Hamare Liye Pyar Hoga,
Guzar Rahi Hai Raat Unki Yaad Me,
Kabhi To Unko Bhi Hamara Intezar Hoga.

कब उनकी पलकों से इज़हार होगा,
दिल के किसी कोने में हमारे लिए प्यार होगा,
गुज़र रही है हर रात उनकी याद में,
कभी तो उनको भी हमारा इंतज़ार होगा।

Sad Shayari, Muskurate palko pe

Muskurate palko pe sanam chale aate hein,
Aap kya jaano kahan se hamare ghum aate hain,
Aaj bhi us mod par khade hain,
Jaha kisi ne kaha tha ke theron hum abhi aate hain.

मुस्कुराते पलको पे सनम चले आते हैं,
आप क्या जानो कहाँ से हमारे गम आते हैं,
आज भी उस मोड़ पर खड़े हैं,
जहाँ किसी ने कहा था कि ठहरो हम अभी आते है।

Yaad Shayari, Palko ko kabhi hamne

पलकों को कभी हमने भिगोए ही नहीं,
वो सोचते हैं की हम कभी रोये ही नहीं,
वो पूछते हैं कि ख्वाबो में किसे देखते हो,
और हम हैं की उनकी यादो में सोए ही नहीं!

Palko ko kabhi hamne bhigoya hi nahi,
Wo sochte hai kr hum kabhi roye hi nahi,
Wo puchte hai ki khwabo me kise dekhte ho,
Aur hum hai ki unki yado me soye hi nahi..!

Miss You Shayari, Palko mein kadd

पलकों मे कैद कुछ सपनें है,
कुछ अपने है और कुछ बेगाने है,
नजाने क्या कशिश है इन ख़्यालों मे ..
कुछ लोग दूर् होकर भी कितने अपने है।

Romantic Shayari Love Poem, Tumhari palkon

~ Tumhari palkon main ~
Tumhari palkon main bassa huwa ek khawb hoon,
Kahi adhura tutt kai bikhar na jaoon,
Tumhari ankhon mai jalakta hua ek anson hu,
Kahi beh kar raith mai mil na jau,
Tumhare dil mai bassa hua ek arman hu,
Kahi dharkan mai dabb kar kho ma jau,
Tumharae hothon pai bassi hua ek hassi hu,
Kahi kabi gam mai baddal na jau,
Tumhare labbo pai thirk ti hui ek kampkapi hu,
Kahi shoonay sai thirkna na bhul jau,
Mujhe hardam sinnae sai lagai rakhna tu,
Kahi judah ho kai duniya ki bhirr mai kho na jau,
Tumhare jism mai bassi hui ek ruh hu,
Kahi bichhur kai marr na jau!