Sad Shayari, Bebasi ka paigam to leta ja

बेबसी का पैगाम तो लेता जा,
मेरी गमगीन शाम तो लेता जा,
ओ सुबह के रहनुमा जरा ठहर,
आँसुओं का सलाम तो लेता जा! 💔

Bebasi ka paigam to leta ja,
Mere ghamgeen sham to leta ja,
O subah ke rahanuma jara thahar,
Aansuon ka salaam to leta ja! 💔

Mat kar hangama peekar hamaari gali mein

Mat kar hangama peekar hamaari gali mein,
ham to khud badanaam hai teri mohabbat ke nashe mein!

मत कर हंगामा पीकर हमारी गली में,
हम तो खुद बदनाम है तेरी मोहब्बत के नशे में!

Tere Har Gam Ko Rooh Me Utar Lun, Shayari

Tere Har Gam Ko Rooh Me Utar Lun,
Zindagi Apni Teri Chahat Me Sanwar Lun,
Mulakaat Ho Tujhse Kuch Is Kadar Meri,
Saari Umr Bas Ek Mulakaat Me Gujar Lun. 😔

तेरे हर ग़म को अपनी रूह में उतार लूँ,
ज़िंदगी अपनी तेरी चाहत में सवार लूँ,
मुलाक़ात हो तुझसे कुछ इस तरह मेरी,
सारी उम्र बस एक मुलाक़ात में गुज़ार लूँ। 😔

Sitam sah kar bhi kitne gam chhipaye humne, Shayari

Sitam sah kar bhi kitne gam chhipaye humne,
Teri khatir har din aansu bahaaye humne,
Tu chhod gaya jahan humein raahon mein akela,
Tere diye zakhm har ek se chhupaye humne. 💔

हर सितम सह कर कितने ग़म छिपाये हमने,
तेरी खातिर हर दिन आँसू बहाये हमने,
तू छोड़ गया जहाँ हमें राहों में अकेला,
बस तेरे दिए ज़ख्म हर एक से छिपाए हमने। 💔

Sad Shayari, Kabhi Gam To Kabhi

Kabhi Gam To Kabhi Tanhai Maar Gayi,
Kabhi Yaad Aa Kar Unaki Judai Maar Gayi,
Bahut Toot Kar Chaaha Jisako Hamane,
Aakhir Mein Unaki Hi Bewafai Maar Gayi. 💔

कभी ग़म तो कभी तन्हाई मार गयी,
कभी याद आ कर उनकी जुदाई मार गयी,
बहुत टूट कर चाहा जिसको हमने,
आखिर में उनकी ही बेवफाई मार गयी। 💔

Sad Shayari, Tere gam ko apni

Tere gam ko apni ruh me utar lu,
Jindagi teri chahat me sabar lu,
Mulakat ho tujhse es tarah,
Tamam umar bas ek mulakat me gujar lu.

तेरे गम को अपनी रूह में उतार लूँ,
जिन्दगी तेरी चाहत में सवार लूँ,
मुलाकात हो तुझ से कुछ इस तरह,
तमाम उमर बस इक मुलाकात में गुजार लूँ।

Sad Shayari, Na milataa gam to

ना मिलता गम तो बर्बादी के अफसाने कहाँ जाते,
दुनिया अगर होती चमन तो वीराने कहाँ जाते,
चलो अच्छा हुआ अपनों में कोई ग़ैर तो निकला,
सभी अगर अपने होते तो बेगाने कहाँ जाते।

Na milataa gam to barabaadi ke afasaane kahaan jaate,
agar duniyaa hoti chaman to viraane kahaan jaate,
chalo achchhaa huaa apano me koi gair to nikalaa,
sabhi agar apane hote to begaane kahaan jaate!

Gam Shayari, Dard Se Hath

दर्द से हाथ न मिलाते तो और क्या करते,
गम के आंसू न बहते तो और क्या करते,
उसने मांगी थी हमसे रौशनी की दुआ,
हम खुद को न जलाते तो और क्या करते!

Dard se hath na milate to aur kya karte,
Gham ke aansoo na bahate to aur kya karte,
Usne maangi thi humse roshni ki dua,
Hum khud ko na jalate to or kya karte

Sad SHayari, Dharti ke gam

धरती के गम छुपाने के लिए गगन होता है,
दिल के गम छुपाने के लिए बदन होता है,
मर के भी छुपाने होंगे गम शायद,
इसलिए हर लाश पर कफ़न होता है।

Sad Shayari, Jahan Bhi Dekha Gam Ka Saya

जहां भी देखा गम का साया,
तू ही तू मुझको याद आया,
ख्वाबों की कलियां जब टूटी,
ये गुलशन लगने लगा पराया,
दरिया जब-जब दिल से निकला,
एक समंदर आंखों में समाया,
मेरे दामन में कुछ तो देते,
यूं तो कुछ नहीं मांगा खुदाया|

Jahan Bhi Dekha Gam Ka Saya,
Tu Hi Tu Mujhko Yaad Aaya,
Khwabon Ki Kaliyan Jab Tooti,
Ye Gulshan Lagne Laga Paraya,
Daria Jab-Jab Dil Se Niklaa,
Ek Samandar Aankhon Me Samaya,
Mere Daaman Me Kuchh To Dete,
Yun To Kuchh Nahi Maanga Khudaya.