Yaad Shayari, Todh do na wo qasam

तोड़ दो न वो क़सम जो खाई है,
कभी कभी याद करलेने मैं क्या बुराई है,
याद आप को किये बिना रहा भी तो नहीं जाता,
दिल में जगा अपने ऐसी जो बनाई है.

Todh do na wo qasam jo khai hai
kabhi kabhi yaad karlene main kya burai hai
yaad aap ko kiye bina raha bhi to nahi jata
dil main jaga apne aisi jo banai hai

Yaad Shayari, Todh do na wo qasam