Yaad Shayari, Palko ko kabhi hamne

पलकों को कभी हमने भिगोए ही नहीं,
वो सोचते हैं की हम कभी रोये ही नहीं,
वो पूछते हैं कि ख्वाबो में किसे देखते हो,
और हम हैं की उनकी यादो में सोए ही नहीं!

Palko ko kabhi hamne bhigoya hi nahi,
Wo sochte hai kr hum kabhi roye hi nahi,
Wo puchte hai ki khwabo me kise dekhte ho,
Aur hum hai ki unki yado me soye hi nahi..!