Yaad Shayari, Jab khamosh aankho se

Jab khamosh aankho se baat hoti hai.
Aise hi mohabbat ki shurwat hoti hai.
Tumhare hi khayalo mein khoye rehte hai.
Pata nahi kab din kab raat hoti hai ?

जब खामोश आँखो से बात होती है
ऐसे ही मोहब्बत की शुरुआत होती है
तुम्हारे ही ख़यालो में खोए रहते हैं
पता नही कब दिन और कब रात होती है

Latest Hindi Shayari