Yaad Shayari, Jaane us shakhs ko

Jaane us shakhs ko kaisa ye hunar aata hai,
Raat hoti hai to ankhoo main utar aata hai,
main us ke khyaal se niklu to kahan jaau,
wo meri soch ke har raste pe nazar aata hai.

जाने उस शख्स को कैसे ये हुनर आता है,
रात होती है तो आँखों में उतर आता है,
मैं उस के खयालो से बच के कहाँ जाऊं,
वो मेरी सोच के हर रस्ते पे नजर आता है।